कैसे ड्रैगन फ्रूट(dragon fruit) की खेती ?

    3
    4306

    क्या है ड्रैगन फ्रूट(dragon fruit)?

    ड्रैगन फ्रूट एक स्वादिष्ट विदेशी फल है, जो पीताया या पीतहाया” के नाम से भी जाना जाता है। इसके औषधीय गुणों के कारण इसे खाने में उपयोग किया जाता है इस फल को सुपर फूड भी माना जाता है।

    इस फल की उत्पत्ति मध्य अमेरिका, दक्षिण अमेरिका और मेक्सिको से हुई है, एशिया में भी इसका खूब प्रयोग किया जाता है, यह एक अत्यंत सुंदर फल है।

    ड्रैगन फ्रूट(dragon fruit) की विशेषताएं।

    ड्रैगन फ्रूट एंटी-ऑक्सीडेंट, एंटीबायोटिक, और पोषण गुणों का एक अच्छा स्त्रोत माना जाता है जो खतरनाक रोगो से शरीर कॊ मुक्त करवाता हैं इसके नन्हे बीज केन्सर से लड़ने में भी मदद करते हैं !

    • प्रतिरक्षा बढ़ाता है। (Boosts Immunity)
    • विटामिन से भरपूर…

    ड्रैगन फल बी विटामिन समूह सहित विटामिन सी के अलावा अन्य विटामिनों भी मौजूद है जैसे कि बी 1, बी 2, और बी 3 विटामिन ब्लड प्रेशर, त्वचा स्वास्थ्य, और कोलेस्ट्रॉल औऱ थायरॉयड से लड़ने में भी मदद करता हैं !

    • जीवाणुरोधी गुण। (antibacterial properties)
    • हृदय रोगों में सुधार करता है। (improve cardiovascular health)
    • पाचन शक्ति को ठीक करता है।

    ड्रैगन फ्रूट(dragon fruit) की खेती अब भारत में।

    पिछले कई साल से इसे थाईलैंड ,लंका ,वियतनाम आदि से इसे निर्यात किया जा रहा है ! भारी मांग को देखते हुए, अब इसकी खेती भारत में भी होने लगी है, पश्चिम भारत यानि महाराष्ट्र और गुजरात और उसके बाद सुदूर उत्तर पूर्व के अर्ध पहाड़ी राज्यों वा आंध्र कर्नाटक, अरुणाचल, सिक्किम और मणिपुर के किसान इसे पिछले कुछ वर्ष से ऊगा रहे है और भारी लाभ कमा रहे है।

    भारत के किसानो की दशा और दिशा बदलने के लिए हमें नई खेती की ओर जाना चाहिए। नियमित खेती को छोड़कर हमें कुछ नई फसल को उगाना चाहिए जिसमें ड्रैगन फ्रूट एक लाभ वाली फसल हो सकती है।

    एक नई तरह की खेती किसान को लाभ की ओर ले जा सकती है जिससे अच्छा खासा कमा सकता है जो अपनी जरूरतों को पूरा करने के साथ-साथ एक अच्छी जीवन शैली यापन कर सकते हैं।

    ड्रैगन फ्रूट (dragon fruit)का बाजार।

    ढेरों औषधीय गुणों से भरपूर फल तेजी से अंतर्राष्ट्रीय जगत में अपना स्थान बनाने के बाद भारत के उपभोक्ता में भी तेजी से लोकप्रिय हो रहा है।

    बड़े-बड़े शहरों में इसकी डिमांड बढ़ने लगी है और बड़ी बड़ी कंपनियां जैसे कि अमोजोन( Amazon), ग्रोफर्स(grofer), अलीबाबा(alibaba) और क्राफ्ट सी(craftsy) ऑनलाइन खारीदती हैं और बेचती हैं।

    आप इस फल को ऑनलाइन भी बेच सकते हैं बड़ी कंपनियों के साथ मेलजोल करके।

    ड्रैगन फ्रूट (dragon fruit)की खेती क्यों ?

    भारी लाभ और इस फल की लोकप्रियता को देखते हुए अब उत्तर और मध्य भारत के किसान भाई भी इसकी खेती में दिलचस्पी दिखा रहे है ।

    एक बार लगाने के बाद दो से तीन साल में यह पौधा भरपूर फल देने लग जाता है जो 15 से 20 साल लगातार फल देता है और एक एकड़ की आमदन 15 से 25 लाख प्रति वर्ष होती है और देखरेख का खर्च और मेहनत बहुत कम होती है।

    बीमारी और कीट पतंगों और जंगली जानवरो से भी इस पौधे को कोई खतरा नहीं है ! इसका फल लाल ,सफ़ेद और पीले रंग के गूदे में उपलब्ध है।

    भारत में इसके लाल गूदे वाले फल को पसंद किया जा रहा है और इसी की खेती भी की जा रही है ! सीमेंट कंक्रीट के बने खम्बों और ऊपर गोल पहिये के सहारे लगने वाले पौधों से भरा खेत भी लोगो में भारी आकर्षण का केंद्र बना हुआ है।

    ड्रैगन फ्रूट (dragon fruit seeds)बीज और प्रशिक्षण योजना।

    अगर आप ड्रैगन फ्रूट की खेती करने के इच्छुक हैं जो 200 रूपए से 400 रूपए किलो तक बिकता है।

    इसके बीज और प्रशिक्षण योजना के बारे में जानकारी चाहिए तो आप श्री राकेश जी से सीधे बात कर सकते है, जो निरंतर प्रयास करते रहते हैं नई नई फसल को भारत में उपजाऊ के लिए वह हर फसल पर गहन रिसर्च करते, फिर उसको दूसरे किसानों तक पहुंचाते हैं।

    वह ग्रामकुल नाम का एक किसान उत्पादक संगठन चलाते हैं जिसमे उन्नत किस्म के स्वस्थ पौधे ,खेती की तकनीक और परामर्श और सही बाजार उपलब्ध करवाते हैं।

    अधिक जानकारी के लिए आप सीधे संपर्क कर सकते हैं

    अग्रि राकेश कुमार

    ग्रामकुल कृषि विकास केंद्र
    गाँव मित्राऊ नजफगढ़ नयी दिल्ली
    या
    गाँव कनलोग तहसील पच्छाद जिला सिरमौर
    हिमाचल प्रदेश
    8837671544

    3 COMMENTS

    1. I living from mp in shujalpur I agree with you.
      ( kya me mp me iski kheti kar sakta hu) agar ha to iska seed’s kaha or kese uplbhadh hoga

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.