कैसे एक किसान ने जैविक खेती(organic farming) से धन और स्वास्थ्य अर्जित किया!

5
1334

कैसे एक किसान ने जैविक खेती(organic farming) से कमाए लाखों रुपए और अब सब को देते हैं ट्रेनिंग और सिखाते हैं जैविक खेती करने के तरीके, जिन्हें श्री नरेंद्रमोदी जी भी कर चुके हैं सम्मानित।

मध्य प्रदेश सरकार हो या गुजरात सरकार दोनों ने ही किया सम्मानित, और 100 के आस पास सर्टिफिकेट जिससे उनकी उपलब्धिया का पता चलता है कि किस प्रकार उन्होंने अपने 16-17 साल जैविक खेती करने मे लगा दिया।shree Dilip Singh jadam

हम बात कर रहे हे “श्री दिलीप सिंह जी जादम” कि जो मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले के एक छोटे से गांव रोसला जागीर में रहते है जो पिछले कई सालों से बिना किसी रसायनिक के फसल उगाते हैं।

गुजरात सरकार द्वारा दिनांक 9-10 सितंबर 2013 को महात्मा मंदिर, गांधीनगर में आयोजित वाइब्रेंट गुजरात वैश्विक कृषि समिट में श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा सम्मानित किए गए, जब श्री नरेंद्र मोदी जी गुजरात के CM हुआ करते थे।

इस कृषि समिट में राज्य सरकारों द्वारा चयनित किसान भाइयों को इस समिट में भेजा गया, देश के प्रगतिशील किसान भाइयों को इकट्ठा करके बुद्धिजीवियों द्वार मौखिक परीक्षा(viva) ली गई।

श्री दिलीप सिंह जादम ने हमे बताया कि कृषि समिट मे आए सभी किसानों में से वह एकलौते जैविक किसान थे, और उनकी मौखिक परीक्षा(viva) लगातार चार दिन तक चली उसके बाद श्री नरेंद्र मोदी द्वारा सम्मानित किये गये और सम्मान की राशि में उन्हें इनका 51हजार का चेक भी दिया गया।

कैसे करी जैविक खेती(organic farming) की शुरुआत..

जब हमने उनसे पूरा जाना कि कब उन्होंने जैविक खेती(organic farming) करना चालू की, तो उन्होंने बताया कि 2001 से उन्हीं के गांव के एक ग्राम सेवक ने उन्होंने जैविक खेती करने के लिए प्रोत्साहन किया तब उन्होंने पहली बार जैविक खेती की, तब उन्होंने पहली फसल लहसुन उगाई, जो पूरी तरह जैविक प्रक्रिया से उगाई गई थी, फिर 2006 में वह पूर्णता जैविक खेती करने लगे, जैविक खेती करते करते अब उन्हें 16-17 साल के आस पास हो गए।turmeric farming

उन्होंने कई प्रकार की फसल जैविक पद्धति(organic method) से उगाई है, जैसे कि सफ़ेद मुसली, मूंगफली, लहसुन, गेहूं, सोयाबीन, हल्दी, कटहल के पेड़, अरबी के पत्ते, भिंडी, एप्पल बेरी, संतरे, मोसंबी, आम, अंगूर इत्यादि।

groundnut farming

जैविक खेती(organic farming) के फायदे..

जब हमने उनसे जैविक खेती(organic farming) के फायदों के बारे में पूछा तो उन्होंने हमें बताया कि यह पूर्णता रसायनिक के बिना उगाए जाने वाली विधि है जिससे हम पैदावार भी बढ़ा सकते है, जो पोषक तत्व रसायनिक के कारण मिट्टी में से खत्म हो गए थे उंहें हम जैविक खेती के द्वारा पुनः मिट्टी में ला सकते हैं।

कम लागत में ज्यादा पैदावार हम जैविक खेती(organic farming) से कर सकता है इस प्रक्रिया से हम मिट्टी का शुद्धिकरण कर सकते हैं

organic fertilizer

बड़ी-बड़ी बीमारियां जैसे की कैंसर जो रसायनिक वा पेस्टिसाइड के कारण उत्पन्न हुई थी उन्हें खत्म कर सकते हैं।

उन्होंने हमें एक और रोचक बात बताइए कि उनका लड़का जो अभी 13-14 साल का है जब से उनका जन्म हुआ तब से वह किसी भी बीमारी का शिकार नहीं हुए ना ही किसी प्रकार की दवाई ली, उन्होंने बताया कि आज तक वह कोई सी भी चीज जैसे कि फल-सब्जी बाजार से लेकर नहीं आए वह सब अपने खेत में उगाते हैं।

jack fruit ?

जैविक खेती(organic farming) में मिली उपलब्धियां…

वैसे तो श्री दिलीप सिंह जादम को बहुत सारे सर्टिफिकेट मिले हुए हैं लेकिन सबसे बड़ा सम्मान जो उन्हें 2013 में मिला वह था गुजरात सरकार द्वारा दिया गया सम्मान सर्टिफिकेट नई तरीके की खेती करने के लिए, उन्हें जिला स्तर पर राज्य स्तर पर और केंद्र स्तर पर उन्हें सम्मान दिया गया।

1. गुजरात सरकार द्वारा 9 से 10 सितंबर 2013 को वाइब्रेंट गुजरात वैश्विक कृषि समिट उत्कृष्ट कृषक का सम्मान दिया गया।

2. सम्मान पत्र कृषि एवम् संलग्न क्षेत्र में सराहनीय योगदान के लिए 9 सितंबर 2013 को गांधीनगर गुजरात में सम्मानित किए गए।

3. भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय मॉड्यूलर रोजगारपरक कौशल प्रमाण पत्र कानपुर(u.p.) 23-08-2013 में दिया गया।

4. केंद्रीय कृषि अभियांत्रिकी संस्थान भोपाल में, सुनियोजित कृषि विकास केंद्र(पी.एफ.डी.सी) फसल में प्लास्टिक कल्चर तकनीकी उपयोग विषय शिक्षण प्राप्त करने पर दिया गया 23-24 अप्रैल 2013 मे।

5. किसान कल्याण तथा कृषि विभाग मध्यप्रदेश ने विकास खंड स्तरीय सर्वोत्तम कृषक पुरस्कार दिया वर्ष(2009-10)मे।

6. एक्सेस डेवलपमेंट सर्विसेज आत्मा के अंतर्गत राज्य स्तरीय प्रशिक्षण में प्रमाण पत्र दिया गया जिला रतलाम में 11-13 दिसंबर 2009।

7. राजमाता विजयराजे सिंधिया कृषि विश्वविद्यालय ग्वालियर द्वारा श्री दिलीप सिंह जादम को जिला राजगढ़ के प्रशिक्षित पत्र जैविक खेती के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए प्रदान किया गया 19 अगस्त2014।

8. एक्सेस डेवलपमेंट सर्विसेज आत्मा समवन्यक अधिकारी जिला राजगढ़ द्वारा फार्मर स्कूल चलाने के लिए दिया गया।

ऐसे कई प्रकार के जिला स्तर, तहसील स्तर पर बहुत सारे सर्टिफिकेट और सम्मान पत्र उनके पास रखे हैं मध्य प्रदेश सरकार भी जब कहीं भी कृषि सम्मेलन, कृषि मेला या फिर किसी भी प्रकार के कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए किए गए प्रोग्राम मे श्री जादम जी को विशेष तौर पर बुलाती है।

तहसील स्तर पर व जिला स्तर पर कृषि सभाओं को संबोधित कर चुके है और निरंतर जैविक खेती(organic farming) को बढ़ाने के लिए लोगों में जागरूकता बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं।

भविष्य के लक्ष्य जैविक खेती(organic farming) में…

जब हमने श्री दिलीप सिंह जी से भविष्य के लक्ष्य के बारे में पूछा तो उन्होंने हमें बताया कि आने वाले समय में ज्यादा से ज्यादा लोगों को जैविक खेती के बारे में जागरुक कराना और राष्ट्रपति से जैविक खेती में सम्मानित होने का एक मात्र लक्ष्य रखते हैं।

उनकी कड़ी मेहनत देखते हुए हमें भी यह लगता है कि जल्दी श्री दिलीप सिंह जी जादम राष्ट्रपति से सम्मानित होंगे जैविक खेती(organic farming) के लिए।

जैविक खाद(organic fertilizer) को बनाने की विधि के लिए कृपया हमें कमेंट बॉक्स में जाकर मैसेज करें जो विधि हमें श्री जादम सिंह जी ने बताई है वह आप तक पहुंचाने की कोशिश करेंगे, जिसमें उनका अनुभव लगभग 16 से 17 साल का रहा है।

कृपया हमें Facebook पर फॉलो करे।

5 COMMENTS

  1. बहुत खूब दिलीप जी?

    आपके द्वारा जैविक खेती को बढ़ावा मिला।और इतनी कम उम्र में पुरुस्कार प्राप्त किया।

  2. Paras gurjar सर आपके नंबर चाहिए मेरे को आपने बहुत आगे बढ़ाया खेती को धन्यवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.